Friday, 10 July 2020

फणीश्वर नाथ रेणु : कोदूराम 'दलित'


कवि कोदूराम "दलित" जी की 110 वीं जयंती - पुण्य स्मरण

"फणीश्वर नाथ रेणु : कोदूराम 'दलित'"

आलेख - पं. दानेश्वर शर्मा
एक था ‘रेणु’ और दूसरा था ‘दलित’ | दोनों का सम्बंध जमीन से था | रेणु का जन्म बिहार के पूर्णिया जिले के औराही हिंगना गाँव में हुआ | दलित का जन्म छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के अर्जुंदा टिकरी गाँव में हुआ | दोनों ग्रामीण परिवेश में पले-बढ़े | रेणु कथाकार थे और दलित कवि | दोनों साहित्यकार थे | रेणु का जन्म 4 मार्च को हुआ और दलित का जन्म 5 मार्च को | बसंत दोनों की प्रकृति में था | वैवाहिक जीवन भी दोनों का एक ही प्रकार का था | रेणु कथा साहित्य में लोक भाषा के शब्दों का सटीक प्रयोग करते थे और दलित लोक भाषा के अधिकारी कवि थे | 
4 मार्च को जब भिलाई में अंतरंग साहित्य समिति ने रेणु श्रद्धास्मरण का आयोजन किया, तब दलित जी का भी स्मरण किया गया | शब्दानुशासनम् के रचनाकार ने जब लोकेवेदे च कहा तब सम्भवत: यह ध्यान में रहा होगा कि लोक शब्द वेद के पहले आ गया है | लोक की यह प्राथमिकता श्लाघनीय है क्योंकि लोक जीवन स्वस्थ जीवन है | लोक संस्कृति भारतीय संस्कृति है तथा लोक साहित्य शाश्वत साहित्य है |
 लोक जीवन सरल , पवित्र तथा निश्छल होता है | रेणु के अनुभव संसार पर अपना आलेख पढ़ते हुए वेद प्रकाश दास ने पिछले दिनों रेणु तथा नागार्जुन के अंतरंग सम्बंधों की चर्चा की | बड़ा रोचक संस्मरण है |
नागार्जुन जी रेणु जी के घर कई बार गये लेकिन संयोगवश रेणु जी उस समय घर से बाहर होते थे | एक दिन बमुश्किल भेंट हो गई तो नागार्जुन जी बरस पड़े – कहाँ चले जाते हो जी ? कई बार आ चुका, लेकिन अब भेंट हो रही है | रेणु जी ने चुटकी ली – तुम मिलने के लायक दिखते कहाँ हो ? अपनी हालत देखो | मैले कुचैले कपड़े और अस्त व्यस्त हुलिया | नागार्जुन जी ने कहा साहित्यकार ऐसा ही होता है | रेणु जी ने कहा नहीं साहित्यकार ऐसा नहीं होता | मैं अभी बताता हूँ कि साहित्यकार कैसा होता है | यह कह कर और नागार्जुन जी को बैठा कर रेणु जी भीतर चले गये | थोड़ी देर बाद, शानदार वस्त्रों से सजधज कर ,बालों को करीने से सँवार कर और इत्र फुलेल की खुशबू से महकते हुए नागार्जुन जी के पास आकर खड़े हो गये और बोले देखो साहित्यकार ऐसा होता है | फिर दोनों के ठहाके |

दलित जी भी साफ सुथरे व्यक्ति थे | उन्हें किसी तरह की लाग लपेट पसंद नहीं थी | सच बात कहने में वे थोड़ा भी नहीं हिचकते थे | इत्र के भी शौकीन थे | एक बार नागपुर आकाशवाणी केंद्र द्वारा आयोजित कवि गोष्ठी में अन्य कवियों के अतिरिक्त दलित जी, मैं और बिलासपुर के स्व. सरयू प्रसाद त्रिपाठी मधुकर भी आमंत्रित थे | हम तीनों मोर भवन ( तत्कालीन हिंदी साहित्य सम्मेलन का कार्यालय भवन ) से आकाशवाणी जाने के लिए निकले | रास्ते में लिबर्टी चौक पर स्थित एक सेलून में दलित जी ने दाढ़ी बनवाई और इत्र लगाने के बाद आकाशवाणी केंद्र की ओर रवाना हुए | इस पर मधुकर जी ने चुटकी ली – रेडियो में केवल आवाज सुनाई पड़ती है ,दलित जी | चेहरा मोहरा नहीं दिखता | दलित जी ने तुरंत जवाब दिया – का होगे महाराज ? आदमी ला साफ सुथरा रहना चाही अउ  साफ सुथरा दिखना घलो चाही | एमे मन परसन रइथे  |
आजादी के लिए लड़ी गई लड़ाई में रेणु जी और दलित जी का योगदान है | रेणु जी ने जेल की यातना सही | दलित जी जेल नहीं गये किंतु अनेक देशभक्त तैयार किए | उन्होंने छात्रों में राष्ट्रीयता कूट-कूट कर भरी | अंग्रेजी शासन के खिलाफ उन दिनों एक शब्द बोलना भी अपराध था किंतु दलित जी सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बहाने वातावरण बनाते रहे | उदाहरण के लिए अपनी कक्षा के छात्रों को वे राउत नाचा सिखाते थे और परम्परागत राउत दोहों के बदले छात्रों को राष्ट्रीय दोहा लिख लिख कर देते थे | दोहे इस प्रकार होते थे ‌ -
गांधी जी के छेरी भैया
दिन भर में-में नरियाय रे
ओकर दूध ला पी के भइया
बुढ़वा जवान हो जाय रे ||
सत्य अहिंसा के राम-बान
गांधी जी मारिस तान-तान |

रेणु और दलित दोनों ने 56 वर्ष की जिंदगी जी | पता नहीं, दोनों में इतना साम्य क्यों था ?

[छत्तीसगढ़ के किसी समाचार पत्र में प्रकाशित वरिष्ठ साहित्यकार पं.दानेश्वर शर्मा जी का यह लेख उन्होंने ही मुझे दिया था | कतरन में अखबार का नाम नहीं दिख पाया है. सम्बंधित समाचार पत्र के प्रति आभार |]


जनकवि कोदूराम "दलित" जी की 110 वीं जयंती पर  छन्दकार सुखदेव अहिलेश्वर की काव्यांजलि

जन्म जयन्ती जन कवि कोदूराम'दलित'

अलख जगाइन साँच के,जन कवि कोदू राम।
जन्म जयंती हे उँकर,शत शत नमन प्रणाम।

सन उन्नीस् सौ दस बछर,जड़ काला के बाद।
पाँच मार्च के जन्म तिथि,हवय मुअखरा याद।

राम भरोसा ए ददा, जाई माँ के नाँव।
जन्म भूमि टिकरी हरै,दुरुग जिला के गाँव।

पेशा से शिक्षक रहिन,ज्ञान बँटइ के काम।
जन्म जयंती हे उँकर,शत शत नमन प्रणाम।

राज रहिस अंगरेज के, देश रहिस परतंत्र।
का बड़का का आम जन,सब चाहिन गणतंत्र।

आजादी तो पा घलिन, दे के जीव परान।
शोषित दलित गरीब मन,नइ पाइन सम्मान।

जन-मन के आवाज बन,हाथ कलम लिन थाम।
जन्म जयंती हे उँकर,शत शत नमन प्रणाम।

जन भाखा मा भाव ला,पहुँचावँय जन तीर।
समझय मनखे आखरी,बहय नयन ले नीर।

दोहा रोला कुंडली, कुकुभ सवैया सार।
कइ प्रकार के छंद सँग,गीत लिखिन भरमार।

बड़ ज्ञानी उन छंद के,दया मया के धाम।
जन्म जयंती हे उँकर,शत शत नमन प्रणाम।

रचना-सुखदेव सिंह अहिलेश्वर
गोरखपुर कबीरधाम छत्तीसगढ़

(चित्रकार - छन्दकार मिलन मलरिहा)

Thursday, 9 July 2020

जनकवि कोदूराम "दलित" की 109 वीं जयन्ती


पुरखों की संस्कृति और परम्परा का सच्चा संवाहक "लोक" ही होता है -

5 मार्च 2019 को जनकवि कोदूराम “दलित” के जन्म-ग्राम टिकरी में वहाँ के ग्रामवासियों द्वारा उनकी 109 वीं जयन्ती के अवसर पर आयोजित कवि सम्मेलन में छत्तीसगढ़ के 9 गीतकारों द्वारा काव्यांजलि समर्पित की जाएगी। इस आयोजन में छत्तीसगढ़ के “जनकवि लक्ष्मण मस्तुरिया को भी स्मरण कर काव्यांजलि समर्पित की जाएगी। दोनों जनकवियों की ग्राम टिकरी से अत्यन्त ही घनिष्ठता रही है। वे जन-जन के मन में समाए हुए हैं। 

जब कोई लोक कलाकार अपना सर्वस्व “लोक” को समर्पित कर देता है तो उसे किसी औपचारिक सम्मान की आवश्यकता नहीं रहती है। शासन उसे याद करे, न करे - “लोक” उसकी स्मृतियों को अपने हृदय में बसाए रखता है। जब “लोक” किसी प्रतिभा को अपने हृदय की धड़कन में बसा लेता है तो उस प्रतिभा में लिए इससे बड़ा कोई सम्मान नहीं हो सकता। 

जनकवि कोदूराम “दलित” और लक्ष्मण मस्तुरिया जी छत्तीसगढ़ की ऐसी ही प्रतिभाएँ हैं जो छत्तीसगढ़ के  “लोक” के हृदय पर राज करती हैं, इन्हें किसी राजाश्रय की आवश्यकता नहीं पड़ी। यही कारण है कि सन् 1967 में दिवंगत होने के 52 वर्षों के दौरान शासन की ओर से दलित जी की जयन्ती या पुण्यतिथि पर किसी प्रकार का विशेष आयोजन नहीं किया गया। अनेक साहित्यिक संस्थाएँ ही उन्हें स्मरण करने के लिए लगातार सक्रिय रही हैं। कभी सुशील यदु ने रायपुर में उनकी स्मृति में विशेष आयोजन किया तो कभी भाटापारा की “अभिव्यक्ति” संस्था ने दलित जी पर केंद्रित विशेष आयोजन किया। कभी बालोद की साहित्यिक समिति ने तो कभी शासकीय कोदूराम दलित महाविद्यालय नवागढ़ उनकी याद में समारोह आयोजित करता है तो कभी ग्राम टिकरी का बुद्धविहार उन्हें याद करता है . कभी संगवारी हमर गाँव के - वाट्सएप समूह(टिकरी-अर्जुन्दा) आयोजन करता है तो कभी  ग्राम टिकरी के ग्रामवासी उनकी जयंती या पुण्यतिथि पर आयोजन कर लेते हैं। 

कुछ ऐसा ही जनकवि लक्ष्मण मस्तुरिया के लिए भी देखने में आ रहा है। 03 नवंबर 2018 को उनके दिवंगत होने के उपरान्त शासन की ओर से उनकी स्मृति में किसी विशेष आयोजन की जानकारी अभी तक नहीं मिली है हालाँकि कुछ अन्य आयोजनों में मस्तुरिया जी को याद जरूर किया गया है। छन्द के छ परिवार ने जांजगीर में शील साहित्य परिषद के साथ एक राज्य स्तरीय समारोह का आयोजन किया था जिसमें छत्तीसगढ़ के लगभग 18 जिलों के साहित्यकारों ने उपस्थित होकर मस्तुरिया जी को भावांजलि समर्पित की थी। कवर्धा, बालोद और कुछ अन्य स्थानों के साहित्यकारों ने भी लक्ष्मण मस्तुरिया की स्मृति में विशेष आयोजन किये। दुर्ग जिला हिन्दी साहित्य समिति दुर्ग ने शब्दांजली सह स्वरांजलि का आयोजन किया था जिसमें लोक गायिका कविता विवेक वासनिक ने अपनी टीम के साथ विशेष रूप से उपस्थित होकर भावांजलि अर्पित की थी। अभी अभी 24 फरवरी को संस्कारधानी कलाकार सुमता समूह, राजनाँदगाँव ने मोर संग चलव… के नाम से एक भव्य आयोजन किया था जिसमें कविता विवेक वासनिक, हिमानी वासनिक, महादेव हिरवानी, प्रभु सिन्हा और राजनाँदगाँव के अनेक गायकों तथा रंगमंच के कलाकारों ने लक्ष्मण मस्तुरिया जी के गीतों पर गायन, वादन और नृत्य प्रस्तुत किया था। 

ग्राम टिकरी के ग्रामवासी 05 मार्च को दलित जी की 109 वीं जयंती के साथ ही लक्ष्मण मस्तुरिया जी को स्मरण कर रहे हैं यह इस बात का प्रमाण है कि संस्कृति का संवाहक वास्तव में लोक होता है, शासन नहीं। मैं व्यक्तिगत रूप से ग्राम टिकरी के सरपंच श्री रितेश देवांगन और उनकी पंचायत के समस्त पदाधिकारियों और समस्त टिकरी वासियों का हृदय से आभारी हूँ। मैं श्री मिथिलेश शर्मा जी का विशेष आभारी हूँ कि उन्होंने दलित जी या मस्तुरिया जी से संबंधित आयोजनों में हमेशा अपना विशेष सहयोग प्रदान किया है। मैं संगवारी हमर गाँव में के तमाम सदस्यों का आभारी हूँ जिन्होंने पूर्व में भी मेरे छन्द संग्रह "छन्द के छ" के विमोचन कार्यक्रम को मूर्त रूप प्रदान किया था और अब भी पूर्ण सहयोग कर रहे हैं। मैं उन समस्त गीतकार कवियों का हृदय से आभारी हूँ जिन्होंने अत्यंत व्यस्तताओं के बावजूद 05 मार्च के कवि सम्मेलन के लिए अपनी स्वीकृति प्रदान की है। 

कविसम्मेलन का आयोजन 05 मार्च 2019 (मंगलवार)

समय - शाम 7.00 बजे से
स्थान - राधा-कृष्ण पीहरधाम कलामंच, टिकरी (अर्जुन्दा)
          जिला - बालोद (छत्तीसगढ़)

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)



Sunday, 24 May 2020

दलित जी की 109 वीं जयंती



पुरखों की संस्कृति और परम्परा का सच्चा संवाहक "लोक" ही होता है -

5 मार्च 2019 को जनकवि कोदूराम “दलित” के जन्म-ग्राम टिकरी में वहाँ के ग्रामवासियों द्वारा उनकी 109 वीं जयन्ती के अवसर पर आयोजित कवि सम्मेलन में छत्तीसगढ़ के 9 गीतकारों द्वारा काव्यांजलि समर्पित की जाएगी। इस आयोजन में छत्तीसगढ़ के “जनकवि लक्ष्मण मस्तुरिया को भी स्मरण कर काव्यांजलि समर्पित की जाएगी। दोनों जनकवियों की ग्राम टिकरी से अत्यन्त ही घनिष्ठता रही है। वे जन-जन के मन में समाए हुए हैं। 

जब कोई लोक कलाकार अपना सर्वस्व “लोक” को समर्पित कर देता है तो उसे किसी औपचारिक सम्मान की आवश्यकता नहीं रहती है। शासन उसे याद करे, न करे - “लोक” उसकी स्मृतियों को अपने हृदय में बसाए रखता है। जब “लोक” किसी प्रतिभा को अपने हृदय की धड़कन में बसा लेता है तो उस प्रतिभा में लिए इससे बड़ा कोई सम्मान नहीं हो सकता। 

जनकवि कोदूराम “दलित” और लक्ष्मण मस्तुरिया जी छत्तीसगढ़ की ऐसी ही प्रतिभाएँ हैं जो छत्तीसगढ़ के  “लोक” के हृदय पर राज करती हैं, इन्हें किसी राजाश्रय की आवश्यकता नहीं पड़ी। यही कारण है कि सन् 1967 में दिवंगत होने के 52 वर्षों के दौरान शासन की ओर से दलित जी की जयन्ती या पुण्यतिथि पर किसी प्रकार का विशेष आयोजन नहीं किया गया। अनेक साहित्यिक संस्थाएँ ही उन्हें स्मरण करने के लिए लगातार सक्रिय रही हैं। कभी सुशील यदु ने रायपुर में उनकी स्मृति में विशेष आयोजन किया तो कभी भाटापारा की “अभिव्यक्ति” संस्था ने दलित जी पर केंद्रित विशेष आयोजन किया। कभी बालोद की साहित्यिक समिति ने तो कभी शासकीय कोदूराम दलित महाविद्यालय नवागढ़ उनकी याद में समारोह आयोजित करता है तो कभी ग्राम टिकरी का बुद्धविहार उन्हें याद करता है . कभी संगवारी हमर गाँव के - वाट्सएप समूह(टिकरी-अर्जुन्दा) आयोजन करता है तो कभी  ग्राम टिकरी के ग्रामवासी उनकी जयंती या पुण्यतिथि पर आयोजन कर लेते हैं। 

कुछ ऐसा ही जनकवि लक्ष्मण मस्तुरिया के लिए भी देखने में आ रहा है। 03 नवंबर 2018 को उनके दिवंगत होने के उपरान्त शासन की ओर से उनकी स्मृति में किसी विशेष आयोजन की जानकारी अभी तक नहीं मिली है हालाँकि कुछ अन्य आयोजनों में मस्तुरिया जी को याद जरूर किया गया है। छन्द के छ परिवार ने जांजगीर में शील साहित्य परिषद के साथ एक राज्य स्तरीय समारोह का आयोजन किया था जिसमें छत्तीसगढ़ के लगभग 18 जिलों के साहित्यकारों ने उपस्थित होकर मस्तुरिया जी को भावांजलि समर्पित की थी। कवर्धा, बालोद और कुछ अन्य स्थानों के साहित्यकारों ने भी लक्ष्मण मस्तुरिया की स्मृति में विशेष आयोजन किये। दुर्ग जिला हिन्दी साहित्य समिति दुर्ग ने शब्दांजली सह स्वरांजलि का आयोजन किया था जिसमें लोक गायिका कविता विवेक वासनिक ने अपनी टीम के साथ विशेष रूप से उपस्थित होकर भावांजलि अर्पित की थी। अभी अभी 24 फरवरी को संस्कारधानी कलाकार सुमता समूह, राजनाँदगाँव ने मोर संग चलव… के नाम से एक भव्य आयोजन किया था जिसमें कविता विवेक वासनिक, हिमानी वासनिक, महादेव हिरवानी, प्रभु सिन्हा और राजनाँदगाँव के अनेक गायकों तथा रंगमंच के कलाकारों ने लक्ष्मण मस्तुरिया जी के गीतों पर गायन, वादन और नृत्य प्रस्तुत किया था। 

ग्राम टिकरी के ग्रामवासी 05 मार्च को दलित जी की 109 वीं जयंती के साथ ही लक्ष्मण मस्तुरिया जी को स्मरण कर रहे हैं यह इस बात का प्रमाण है कि संस्कृति का संवाहक वास्तव में लोक होता है, शासन नहीं। मैं व्यक्तिगत रूप से ग्राम टिकरी के सरपंच श्री रितेश देवांगन और उनकी पंचायत के समस्त पदाधिकारियों और समस्त टिकरी वासियों का हृदय से आभारी हूँ। मैं श्री मिथिलेश शर्मा जी का विशेष आभारी हूँ कि उन्होंने दलित जी या मस्तुरिया जी से संबंधित आयोजनों में हमेशा अपना विशेष सहयोग प्रदान किया है। मैं संगवारी हमर गाँव में के तमाम सदस्यों का आभारी हूँ जिन्होंने पूर्व में भी मेरे छन्द संग्रह "छन्द के छ" के विमोचन कार्यक्रम को मूर्त रूप प्रदान किया था और अब भी पूर्ण सहयोग कर रहे हैं। मैं उन समस्त गीतकार कवियों का हृदय से आभारी हूँ जिन्होंने अत्यंत व्यस्तताओं के बावजूद 05 मार्च के कवि सम्मेलन के लिए अपनी स्वीकृति प्रदान की है। 

कविसम्मेलन का आयोजन 05 मार्च 2019 (मंगलवार)

समय - शाम 7.00 बजे से
स्थान - राधा-कृष्ण पीहरधाम कलामंच, टिकरी (अर्जुन्दा)
          जिला - बालोद (छत्तीसगढ़)

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)